Wednesday, 5 June 2019

विश्व पर्यावरण दिवस: अपने स्तर पर आप पर्यावरण को कैसे बचा सकते हैं, अपनी राय दें।

विश्व पर्यावरण दिवस:

paryavaran day
Image by patrika.com

प्रकृति हो या मानव जीवन समाज या देश, सभी की उचित स्थिति, सुख और समृद्धि तभी तक बनी रह सकती है जब तक वे पर्याप्त संतुलन बनाए रखते हैं। इसके लिए हम कहीं न कहीं हम सभी की गतिविधियों के लिए जिम्मेदार हैं। इसलिए, पर्यावरण को बचाने के लिए, सभी नागरिकों की जिम्मेदारी, सरकारी स्तर के अलावा, व्यक्तिगत स्तर पर भी है।

नई दिल्ली: चाहे प्रकृति हो या मानव जीवन समाज या देश, सभी की उचित स्थिति, सुख और समृद्धि तब तक बनी रह सकती है जब तक वे पर्याप्त संतुलन बनाए रखते हैं। लेकिन कुछ वर्षों से पर्यावरण पूरी तरह से असंतुलित हो गया है। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, लोग प्रकृति से दूर हो रहे हैं। लेकिन वर्तमान समय में प्रदूषण के कारण खराब हो रही इस धरती को बचाने के लिए सभी को आगे आने की जरूरत है। इसके लिए हम कहीं न कहीं हम सभी की गतिविधियों के लिए जिम्मेदार हैं। इसलिए, पर्यावरण को बचाने के लिए, सभी नागरिकों की जिम्मेदारी, सरकारी स्तर के अलावा, व्यक्तिगत स्तर पर भी है।

"पर्यावरण दिवस" ​​पर संयुक्त राष्ट्र का विषय लोगों को प्रकृति से जोड़ना
संयुक्त राष्ट्र ने पर्यावरण दिवस 2017 के लिए ing कनेक्टिंग पीपल टू नेचर ’थीम रखी है। 5 जून यानि आज पूरे विश्व में विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जा रहा है। प्रकृति को महसूस करने और उसमें आने वाले परिवर्तनों को देखने के लिए, हम सभी को प्रकृति के करीब जाना होगा। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण द्वारा हर साल पर्यावरण दिवस के लिए एक थीम निर्धारित की जाती है। इस वर्ष, लोगों को प्रकृति से जुड़ने के लिए लक्षित किया गया है। 5 जून को एक वार्षिक कार्यक्रम भी है, जो इस साल कनाडा में होगा।

विश्व पर्यावरण दिवस पर संयुक्त राष्ट्र का क्या संदेश है
विश्व पर्यावरण दिवस पर संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि यह पूरे वर्ष में जुड़ने और महसूस करने का वर्ष है। इस वर्ष का विषय कहता है कि हम देखते हैं कि हम प्रकृति से कैसे जुड़े हैं। हम प्रकृति की सीमा पर निर्भर हैं। घर से बाहर निकलें, पार्कों में जाएं, प्रकृति के विभिन्न रूपों को देखें, तितलियों को पहचानें, पार्क के किसी भी कोने में जाएं, जहां आप पहले कभी नहीं गए हैं और इसे ध्यान से देखें।

पहला विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 1974 को मनाया गया था।
विश्व पर्यावरण दिवस पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण के लिए पूरे विश्व में मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र ने वर्ष 1972 में इस दिवस के उत्सव को विश्व स्तर पर पर्यावरण के लिए राजनीतिक और सामाजिक जागरूकता लाने के लिए घोषित किया। यह संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन में चर्चा के बाद 5 जून से 16 जून तक शुरू किया गया था। पहला विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 1974 को मनाया गया था।

अगर आप पर्यावरण को बचाना चाहते हैं तो ये उपाय करें
जल ही जीवन है और इसके बिना जीवन संभव नहीं है, लेकिन इसके अथक दोहन ने कई मायनों में पारिस्थितिक संतुलन को बिगाड़ दिया है। हमें पानी के दोहन को कम करना होगा।

अगर आप लंबी यात्रा पर जा रहे हैं तो ट्रेन और विमान का उपयोग करें। अपने निजी वाहनों का उपयोग करने से बचें। निजी वाहनों की बढ़ती प्रतिस्पर्धा ने पर्यावरण असंतुलन को भी बढ़ावा दिया है।

- खाना बर्बाद करने से बचें। हमारे ज्यादातर घर या बच्चे कभी-कभी अपनी थाली में खाना छोड़ देते हैं। भोजन की बर्बादी के कारण पर्यावरण असंतुलन भी बढ़ता है।

- अधिक वाहन खरीदने से बचें। आजकल, कुछ लोग एक से अधिक कार खरीद रहे हैं, जिससे डीजल की खपत बढ़ जाती है, जो पर्यावरण प्रदूषण का मुख्य कारण है।

पुराने वाहनों और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की खरीद से बचें क्योंकि यह देश में बड़ी मात्रा में विदेशी कचरा एकत्र कर रहा है। यह कचरा बढ़ते पर्यावरण असंतुलन का मुख्य कारण है।

- महिलाओं को सैनिटरी पैड के इस्तेमाल से बचना चाहिए। अधिकांश महिलाओं को यह नहीं पता है कि भारत में हर महीने एक अरब से अधिक सैनिटरी पैड गैर-निष्पादित सीवर, अपशिष्ट गड्ढों, मैदानों और जल स्रोतों में जमा होते हैं, जो बड़े पैमाने पर पर्यावरण और स्वास्थ्य के लिए खतरनाक साबित हो रहे हैं।

एक सर्वेक्षण के अनुसार, भारत में लगभग 33.6 मिलियन लड़कियां और महिलाएं मासिक धर्म से गुजरती हैं, जिसका अर्थ है कि उनके द्वारा लगभग 12.1 मिलियन डिस्पोजेबल सैनिटरी नैपकिन का उपयोग किया जाता है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी और पर्यावरण को बचाने के लिए क्या कर सकते है कमेंट करके जरूर बताएं। धन्यवाद

No comments:

Post a Comment